रयान स्कूल के मालिक पर गुस्साया सुप्रीमकोर्ट, दे दिया है ऐसा फरमान कि अब शायद…

337

रयान इंटरनेशनल स्कूल में हुये प्रद्युमन हत्याकांड को लेकर हरयाणा पुलिस की लापरवाही को देखकर सुप्रीम कोर्ट को आया गुस्सा दे दिया है ऐसा फरमान कि अब जितने भी रयान स्कूल हैं शायद ही वो अब चल पायें क्यों अब पुलिस दिल्ली, नॉएडा और हरयाणा ही नहीं बल्कि मुंबई तक पहुच गयी है क्यों…

जैसा की अबतक पूरा देश जान चुका है अभी कुछ दिन पहले किस तरह से एक मासूम बच्चे प्रद्युम्न की स्कूल के बाथरूम में निर्मम हत्या कर दी गयी थी. उस मामले के बाद पुलिस ने बस के कंडक्टर को गिरफ्तार किया था और उस बस के कंडक्टर ने अपना गुनाह भी कबूल कर लिया था लेकिन इस पूरे हत्याकांड पर उस मासूम बच्चे की माँ का और पूरे परिवार का बोलना था कि जो आरोपी पकड़ा गया है वो असली आरोपी नहीं है वो सिर्फ एक मोहरा है बल्कि असली आरोपी तो कोई और ही है.

माँ-बाप ने अपना बच्चा खोया है तो ज़ाहिर है उनके बच्चे को इन्साफ भी उनके ही तरीके से मिलना चाहिए. अपने बच्चे को इन्साफ दिलाने के लिए प्रद्युमन के माता पिता ने सीबीआई कोर्ट और सुप्रीमकोर्ट से  गुहार लगायी है. आपको बता दें कि सुप्रीमकोर्ट ने भी प्रद्युमन के माता पिता को पूरा सपोर्ट देते हुए. रयान इंटरनेशनल स्कूल के दो अधिकारियों की गिरफ्तारी कर ली गयी है.और

इसके साथ ही मुंबई के रयान स्कूल के हेड क्वार्टर में पुलिस पहुच और रयान स्कूल के मालिकों पर शिकंजा कसने की कोशिशें ज़ारी हैं. लापरवाही को देखते हुए दो अधिकारीयों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है. इस बड़ी गिरफ्तारी के बाद स्कूल के CEO रयान पिंटो पर शिकंजा कसने की है तैयारी. CBI जांच पर सुप्रीमकोर्ट ने नोटिस जारी किया है. इस नोटिस में न सिर्फ केंद्र को बल्कि खट्टर सरकार पर भी. सुप्रीमकोर्ट द्वारा नोटिस जारी होने के बाद हरयाणा पुलिस रयान स्कूल के हेड क्वार्टर तक पहुँच गयी है और इस मामले की जांच अब गुरुग्राम से लेकर मुम्बई तक लगातार ज़ारी है.

आपको बता दें कि रयान स्कूल के CEO रयान पिंटो को कहीं न कहीं गिरफ्तारी का डर है. इसके लिए उसें अग्रिम ज़मानत की अर्जी हाईकोर्ट में दी है. समझ में नहीं आता कि एक तरफ रयान पिंटो बोलते हैं कि उनका स्कूल भी पीड़ित है लेकिन अब जब मामले में उनके सहयोग की ज़रूरत है तो वो क्यों छुपा भाग रहा है. न जांच में मदद कर रहा है और न ही पूछ ताछ में.  

देखें वीडियो- 

Loading...
Loading...